राजस्थान में 110279 संविदाकर्मी होंगे नियमित-पुरानी पेंशन योजना का लाभ भी मिलेगा |


राजस्थान में 110000 संविदाकर्मी होंगे नियमित, राजस्थान सरकार द्वारा विभिन्न विभागों में कार्यरत 110279 संविदाकर्मियों को नियमित किया जाएगा, Rajasthan Government New Order For Contract Based Employees, नियमित होने वाले संविदाकर्मियों को भी Old Pension Scheme का लाभ मिलेगा |

दिवाली के त्यौहार आने के साथ ही देश तथा प्रदेश की सरकारे अपनी जनता के लिए बहुत सारे उपहार ला रही है। जिससे आम लोगों के लिए सरकार उनके जीवन में सुख,समृद्धि और खुशहाली ला सके। इसी तरह गहलोत सरकार द्वारा राजस्थान में संविदा कर्मियों के लिए एहम फैसला लिया गया है। जिसमे राजस्थान मे मौजूद 1 लाख 10 हजार संविदा कर्मियों को diwali के त्यौहार पर नियमित करने का आदेश दिया है।

जिससे अब इन संविदा कर्मियों को विभिन्न विभागों में स्थाई कर दिया जाएगा। इसके बाद इन संविदा कर्मियों को ना केवल सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी बल्कि स्थायीकरण होने के बाद स्थाई होने पर मिलने वाली अब विभिन्न सुविधाएं भी इन कर्मचारियों को मिल सकेंगी। आइये राजस्थान सरकार द्वारा लिए गए इस अहम निर्णय को विस्तार से Post द्वारा समझते हैं।

राजस्थान कॉन्ट्रैक्चुअल हायरिंग टू सिविल पोस्ट रूल्स 2022 को आधार बनाकर किया गया है, नियमित।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गहलोत सरकार द्वारा अपने घोषणा पत्र में कहा था कि हमारी सरकार द्वारा नियमों के अनुसार ही संविदा कर्मियों को Permanent किया जाएगा। इसी वजह से राजस्थान कॉन्ट्रैक्चुअल हायरिंग टू सिविल पोस्ट रूल्स 2022 के नियमों को आधार बनाकर  ही 1 लाख 10 हजार संविदा कर्मियों को नियमित किया गया है। क्योंकि पहले के नियमों के अनुसार संविदा कर्मियों को नियमित नहीं किया जा सकता था। इसी वजह से Gahlot Sarkar द्वारा नियमों में बदलाव किया गया है। ताकि राज्य सरकार द्वारा कर्मचारियों के नियमित किए जाने का ऐतिहासिक फैसला लिया जा सके।

Notes & Job Update के लिए फॉर्म भरे

Bhumi Jankari 2022

AILET Application Form 2023

Rajasthan Health Department 9700 Recruitment 2022

अब NEET के बिना भी आप डॉक्टर बन सकेंगे

बता दे कि Rajasthan Contractual Hiring To Civil Post Rules 2022 हाल में राजस्थान सरकार द्वारा लाया गया है। जिसके जरिए संविदा कर्मियों के लिए कई सारे प्रावधान किए गए हैं। आइए इन नए प्रावधानों को विस्तार से जानते हैं।

Rajasthan Government New Order For Contract Based Employees
  •  नए कानून में अब संविदा कर्मियों की भर्ती पूरी पारदर्शिता से की जाएगी। जहां पहले बिना पारदर्शिता के भाई- भतीजावाद या पैसे लेकर संविदा कर्मियों की भर्ती की जाती थी। जिससे योग्य उम्मीदवार इन भर्ती प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाते थे। लेकिन Rajasthan government द्वारा अब पूरी निष्पक्षता से संविदा कर्मियों की भर्तियां की जाएंगी।
  •  इसके अलावा संविदा कर्मियों की भर्ती में पहले आरक्षण नियमों का कोई भी ध्यान नहीं रखा जाता था। जिससे सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों को उनका हक नहीं मिल पाता था।
  • अपने घोषणा पत्र में गहलोत सरकार ने संविदा कर्मियों को भी Reservation Rule के दायरे में रखने की बात कही थी। जिसको अब जाकर नए कानून में शामिल किया गया है। यानी अब सभी संविदा कर्मियों की भर्तियों में आरक्षण नियमों का पूरा ध्यान रखा जाएगा।
  •  सबसे महत्वपूर्ण निर्णय राजस्थान कॉन्ट्रैक्चुअल हायरिंग टू सिविल पोस्ट रूल्स 2022 मे संविदा कर्मियों के 5 साल तक काम करने को लेकर किया गया है। अब सभी संविदा कर्मी अगर राज्य सरकार में किसी भी पद पर 5 साल अपनी service देते हैं, तो उनको स्थाई कर दिया जाएगा।
  • क्योंकि जहां पहले संविदा कर्मी लंबे समय तक काम करते रहते थे, लेकिन सरकार द्वारा उनको स्थाई नहीं किया जाता था। कभी-कभी तो सालों से काम कर रहे, संविदा कर्मियों को उनकी नौकरी से भी हटा दिया जाता था, जिससे ऐसे लोगों के साथ बहुत बुरा बर्ताव होता था।
  • नए नियम में सभी संविदा कर्मियों को permanent करने के बाद, अब उनका मानदेय भी स्थाई के बराबर हो जाएगा। जिससे संविदा कर्मी को भी स्थाई कर्मचारी के बराबर वेतन मिलेगा।
  • इससे लंबे समय से होने वाला भेदभाव भी समाप्त हो पाएगा। संविदा कर्मी भी सालों से स्थाई कर्मचारियों के समान ही काम करते थे, लेकिन उनका मानदेय बहुत कम होता था। जिससे उन्हें मानदेय के अलावा अन्य कोई भी सहायता तथा सुविधाएं नहीं मिलती थी।
  • लेकिन अब उन को Permanent कर देने के बाद संविदा कर्मी भी Old Pension Yojana सहित अन्य योजनाओं का भी लाभ उठा सकेंगे।

किन-किन विभागों में संविदा कर्मियों को किया गया है, नियमित।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि राजस्थान सरकार के विभिन्न विभागों में कई सालों से काम कर रहे संविदा कर्मियों को नियमित किया गया है। इनमें शिक्षा विभाग, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग, अल्पसंख्यक विभाग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग मे कार्यरत संविदा कर्मी शामिल हैं। आइये department के अनुसार संविदा कर्मियों के स्थायीकरण को टेबल के माध्यम से समझते हैं।

Department Contractual workers Total post
शिक्षा विभाग शिक्षा विभाग में शिक्षाकर्मी, पैरा टीचर, ग्राम पंचायत सहायक तथा अंग्रेजी माध्यम अध्यापक के रूप में संविदा कर्मी शामिल है। जिनके द्वारा 5 साल से ज्यादा समय से इन पदों पर संविदा कर्मियों के रूप में कार्य किया जा रहा है, उन को स्थाई किया गया है। 41,423
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज इसमें राजीविका तथा मनरेगा के विभिन्न पदों पर कार्य करने वाले संविदा कर्मी सम्मिलित हैं।इन संविदा कर्मियों को भी 5 साल से ज्यादा, अपने पदों पर कार्य करने के बाद स्थाई किया गया है। 18,226
अल्पसंख्यक विभाग अल्पसंख्यक विभाग में मदरसा पैरा टीचर्स के रूप में संविदा कर्मियों को स्थाई किया गया है। क्योंकि इन अध्यापकों को भी सेवा देते हुए, अपने पद पर 5 साल से ज्यादा हो चुके थे। 5697
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग इसमें एनएचएम के रूप में कार्य करने वाले विभिन्न संविदा कर्मियों को स्थाई किया गया है।इनमें भी एनएचएम के रूप में संविदा कर्मियों को 5 साल से ज्यादा काम करते हुए हो गए थे। 44833
Total   1,10,279

Scroll to Top